आज पीएम मोदी क्यों सदन में हो गए भावुक? गला रूंधा, आवाज भर्राई

0
145

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद को राज्यसभा में उनके आखिरी दिन के मौके पर कभी ना भूल जाने वाली विदाई दी। उन्होंने ऐसा एक किस्सा बताया जिसे सुनकर पीएम मोदी खुद भावुक हो गए और उनका गला रूंध गया और आवाज भी भर्रा गई। पीएम मोदी के इस रुख से पूरे सदन में बाकी सदस्य काफी भावुक हो गए। गुलाम नबी भी भावुक दिखे और उन्होंने प्रधानमंत्री को हाथ जोड़कर उनका धन्यवाद किया।

गुलाम नबी आजाद का राज्यसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इस मौके पर प्रधानमंत्री आज उनको विदाई दे रहे थे। उन्होंने कहा कि एक बार गुलाम नबी आजाद जब जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री थे, उस समय वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे। गुजरात के पर्यटकों पर कश्मीर में आतंकवादियों ने हमला कर दिया था। आजाद ने उन्हें फोन कर ना सिर्फ इस घटना की सिर्फ सूचना दी थी बल्कि खुद भी फोन पर इस घटना को लेकर रो पड़े थे और रात में खुद एयरपोर्ट जाकर मारे गए लोगों के शवों को सेना के विमान से गुजरात भेजा गया था।

मोदी ने कहा कि उन्होंने एक मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि एक परिवार के सदस्य के तौर पर अपना कर्तव्य निभाया। प्रधानमंत्री यह बात बोलते समय भावुक हो गए और आवाज भर्रा गई। सदन में बाकी सदस्यों ने उनकी इस भावना को लेकर मेजें थपथपाई। उन्होंने कहा कि वह आज अपने मन से यह निकाल दे कि वह सदन के सदस्य नहीं है और उन्हें उम्मीद है कि वे जहां भी रहेंगे चैन से नहीं बैठेंगे और देश को के लिए काम करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें खुद उनकी सलाह और मार्गदर्शन की जरूरत रहेगी और वह उनको सेवानिवृत्त नहीं होने देंगे। आजाद के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर से ही तीन और सदस्यों को सदस्यता खत्म करने सदस्यता खत्म होने पर बधाई दी।