ऑटो डेबिट सिस्टम की आखिरी तारीख बढ़ने से ग्राहकों को हुआ यह नुकसान

0
162

आपको शायद इस बात का काफी मलाल होता होगा कि जब नेटफ्लिक्स या कोई अन्य ओटीटी प्लेटफार्म आपसे बिना पूछे आपके पैसे काट लेता होगा। आपका बस यही कसूर था कि आपने शुरू उसकी एक बार सेवा लेने के लिए अपने क्रेडिट या डेबिट कार्ड के डिटेल्स उसके प्लेटफार्म पर दर्ज करा दिए थे। इसके बाद वह आपको एक बार सूचना देने के बाद बिना आपकी अनुमति लिए आपके अकाउंट से हर महीने पैसा काट लेता है। लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों को कहा था कि वह ऐसा करने से किसी भी कंपनी को रोके क्योंकि पैसा काटने से पहले ग्राहकों की अनुमति लेना जरूरी है। चाहे सेवा लेने के समय ग्राहक ने इस पर सहमति जताई हो लेकिन अगर मोबाइल बिल अन्य यूटिलिटी बिल या ओटीटी प्लेटफॉर्म के सब्सक्रिप्शन के लिए हर महीने पैसे काटे जाते हैं तो ग्राहकों से अनुमति लेनी होगी लेकिन बैंक और भुगतान सुविधा प्रदान करने वाले तमाम प्लेटफार्म मांग कर रहे थे कि नई व्यवस्था को लागू करने के लिए उन्हें कुछ समय दिया जाए जबकि यह सिस्टम 31 मार्च 2021 को बदलाव होना था लेकिन बैंकों ने तब भी गुजारिश कर इस तारीख को आगे बढ़वा लिया था और अब जब 31 मार्च आ गई तो फिर बोल कर फिर इस तारीख को 30 सितंबर 2021 तक बढ़ा दिया है यानी ग्राहक को मिलने वाली सुविधा अब शायद 30 सितंबर के बाद मिले या फिर 30 सितंबर तक भी इस सेवा को आगे के लिए कंपनियां टलवा सकती हैं।

ऑटो डेबिट सिस्टम के जरिए ग्राहकों के बिजली पानी मोबाइल और ओटीटी प्लेटफॉर्म से जुड़े भुगतान हर महीने अपने आप हो जाते हैं लेकिन आरबीआई का कहना है कि कंपनियों को इसके लिए 24 घंटे पहले घर ग्राहकों से अनुमति लेनी जरूरी होगी सिर्फ सूचना देने से काम नहीं चलेगा। अगर कोई ग्राहक अनुमति नहीं देता है तो यह भुगतान नहीं किया जा सकता हालांकि इसके बाद माना जा रहा था कि इस बदलाव की वजह से ग्राहकों को भी कुछ दिक्कतें हो सकती हैं। उन पर बैंक कुछ चार्जेस लगा सकता है लेकिन कंपटीशन के समय में ऐसा करना उनके लिए भी इतना आसान नहीं है इसलिए बैंक और विभिन्न प्लेटफार्म आरबीआई से बार-बार गुजारिश कर इस तारीख को टलवा रही हैं ताकि वह झंझट से बच सकें।