क्या सख्ती से रुकेगा कोरोना : केंद्र सरकार की गाइडलाइन जारी- किसानों को राहत, पब्लिक प्लेस में थूकने पर सजा और जुर्माना!

0
214

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाए जाने की घोषणा किए जाने के बाद केंद्र सरकार बुधवार को लॉकडाउन की नई गाइडलाइन जारी कर दीं। गृह मंत्रालय द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस के मुताबिक, 20 अप्रैल से एसईजेड के अंदर अब काम काम शुरू हो जाएगा और कोल माइन्स में भी माइनिंग के काम की शुरुआत हो जाएगी। इसमें स्पष्ट किया गया है कि सार्वजनिक स्थानों और काम करने की जगह पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा। पब्लिक प्लेस पर थूकने पर सजा और जुर्माना देना होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देशभर में 21 दिन से जारी लॉकडाउन 19 दिन और बढ़ा दिया था।इसमें बताया गया है कि फिलहाल किसी भी तरह के परिवहन पर पूरी तरह रोक जारी रहेगी।

पीएम ने कहा था कि इस बार लॉकडाउन से बाहर निकलने के नियम बहुत सख्त होंगे, जहां कोरोना नहीं फैलेगा, वहां 20 अप्रैल से कुछ जरूरी चीजों को सशर्त छूट मिलेगी।

गाइडलाइंस के मुताबिक, लॉकडाउन की पूरी अवधि के दौरान राज्यों के बॉर्डर भी सील रहेंगे, जिसका मतलब है कि बस, मेट्रो, हवाई और ट्रेन सफर नहीं किया जा सकेगा। इन सबके अलावा स्कूल, कोचिंग सेंटर और अन्य शैक्षणिक संस्थान भी बंद ही रहेंगे। वहीं, किसानी से जुड़े कामों को छूट जारी रहेगी। गृह मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइंस के मुताबिक, विवाह समारोह, जिम और हर तरह के धार्मिक स्थान बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं।

मास्क पहनना जरूरी, इधर-उधर थूका तो खैर नहीं
गृह मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइंस के मुताबिक, राजनीतिक और खेल आयोजन पर भी रोक जारी रहेगी। गाइडलाइंस में मास्क पहनना जरूरी कर दिया गया है और कहा गया है कि इसके लिए घर में बना मास्क, दुपट्टा या गमछा भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है। वहीं, इधर-उधर थूकने वालों पर भी इन गाइडलाइंस में जुर्माने का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा 3 मई तक सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल और रेस्तरां भी बंद रहेंगे।

खेती से जुड़ी गतिविधियों पर रोक नहीं, किसानों को राहत
गाइडलाइंस के मुताबिक, कृषि कार्य से जुड़ी सभी गतिविधियां चालू रहेंगी। किसानों और कृषि मजदूरों को फसल कटाई से जुड़े काम करने की छूट रहेगी। इसके अलावा कृषि उपकरणों की दुकानें, उनके मरम्मत और स्पेयर पार्ट्स की दुकानें भी खुली रहेंगी। खाद, बीज, कीटनाशकों के निर्माण और वितरण की गतिविधियां चालू रहेंगी और इन चीजों की दुकानें भी खुली रहेंगी। कटाई से जुड़ी मशीनों के एक राज्य से दूसरे राज्य में मूवमेंट पर भी किसी तरह की रोक नहीं है।

30 अप्रैल की जगह 3 मई तक लॉकडाउन क्यों?
कई राज्यों ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ा दिया था। प्रधानमंत्री ने देशभर में टोटल लॉकडाउन को 30 अप्रैल की जगह 3 मई तक बढ़ा दिया है। माना जा रहा है कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि 1 मई को मजदूर दिवस का पब्लिक हॉलिडे है। महाराष्ट्र, जहां कोरोना के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं, वहां 1 मई को महाराष्ट्र दिवस की छुट्‌टी होती है। 2 मई को शनिवार और 3 मई को रविवार है। वीकेंड पर लॉकडाउन खुलता तो लोग बड़ी तादाद में बाहर निकलते। इसलिए 30 अप्रैल की जगह 3 मई तक लॉकडाउन रखा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here