दुनिया में कोरोना वायरस का बढ़ता कहर

0
477

अब तक 100 से अधिक देश इसकी चपेट में आ चुके हैं और 1 लाख 82 हजार से अधिक केस सामने आ चुके हैं. हालांकि, गनीमत की बात है कि करीब 80 हजार लोग ठीक हो चुके हैं. पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 7 हजार को पार कर गया है. वहीं, इटली में एक दिन में 349 लोगों की जान चली गई है.

कोरोना वायरस के प्रकोप से पूरे देश- विदेश, खेल जगत तक में आहत हो गई है। कोरोना के लगातार बढ़ते खतरे के बीच एक बुरी खबर आई है. स्पेन के 21 साल के फुटबॉल कोच फ्रांसिस्को गार्सिया भी इस जानलेवा वायरस के चपेट में आ गए और उनकी मौत हो गई. स्पेनिश लीग की सेकेंड डिविजन युवा टीम एटलेटिको पोर्टाडा अल्टा के कोच फ्रांसिस्को गार्सिया को गंभीर COVID-19 के लक्षण पाए जाने के बाद स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अस्पताल ले जाए जाने के बाद वह ल्यूकेमिया से पीड़ित पाए गए.

पाकिस्तान में कोरोनावायरस से पहली मौत
वहीं, कोरोना वायरस से पाकिस्तान में पहली मौत दर्ज की गई है. लाहौर के मायो अस्पताल में भर्ती इमरान नाम के मरीज की मौत हो गई है. वो पाकिस्तान के हफीजाबाद का रहने वाला था. पाकिस्तान में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 186 हो गई है.

अमेरिका ने दो राज्यों न्यू जर्सी और सैन फ्रांसिस्को में कर्फ्यू लगा दिया, जबकि इटली और फ्रांस लॉकडाउन हैं. स्पेन, रूस ने अपने बॉर्डर सील कर दिए हैं. जर्मनी ने भी अपने यहां लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है. कनाडा ने भी कनाडाई और अमेरिकियों को छोड़कर दुनिया भर के नागरिकों के लिए अपना बॉर्डर सील कर दिया है.

वायरस फैलने की कितनी स्टेज होती हैं?

कोरोना वायरस से भारत में अब तक 126 मरीज मिले हैं. इनमें से दो की मौत हो गई है और 13 सही होकर घर जा चुके हैं. भारत में कोरोना दूसरे चरण में है. आइए जानते हैं कि कोरोना वायरस फैलने की कितनी स्टेज हैं और उनमें क्या होता है?

पहली स्टेज- कोरोना वायरस की शुरुआत चीन से हुई है और यहीं से पूरे दुनिया में यह फैला. भारत में भी कोरोना वायरस बाहर से आया है. सिर्फ एक आदमी जो कि कोरोना वायरस से संक्रमित देश में घूमकर आया है, जो खुद भी संक्रमित है उसके जरिए कई लोग बीमार हो सकते हैं.

दूसरी स्टेज- भारत फिलहाल दूसरी स्टेज में है. यहां अभी तक उन्हीं लोगों में कोरोना वायरस हुआ है, जो किसी कोरोना संक्रमित देश से घूमकर आए हैं. यानी अभी यह बीमारी स्थानीय स्तर पर एक इंसान से दूसरे इंसान में नहीं फैली है.

तीसरी स्टेज- इस स्टेज में यह बीमारी भारत के अंदर मौजूद संक्रमित लोगों से यहीं के दूसरे लोगों में फैलने लगेगी. यह बेहद खतरनाक स्थिति है. भारत पूरी तरह से यह कोशिश कर रहा है कि इस स्टेज में न पहुंचे. क्योंकि इसमें यह वायरस स्थानीय माहौल के हिसाब से ही खुद को ढाल लेता है और खुद में बदलाव कर लेता है. इसके बाद स्थानीय स्तर पर फैलना शुरू कर देता है.

तीसरी स्टेज का मतलब है कि यह वायरस देश के वातावरण के हिसाब से खुद को ढाल लेता है. तीसरी स्टेज में ही सरकार बड़े पैमाने पर मॉल, दुकानें, बाजार, स्कूल आदि बंद करा देती है. इसे लॉकडॉउन या शटडाउन कहते हैं. ताकि वायरस किसी स्थानीय इलाके से दूसरे इलाके में न पहुंचे.

चौथी स्टेज- चौथी स्टेज का मतलब महामारी होता है, यानी जब देश के अंदर ही बड़े भौगोलिक स्तर पर बीमारी अपने पैर जमा ले तो मान लीजिए यह चौथी स्टेज है. चीन में कोरोना वायरस ने महामारी की शक्ल ले ली थी. इसके अलावा इटली, ईरान और स्पेन में भी कोरोना चौथी स्टेज पर है.