पाकिस्तान में मनी दीवाली, हिंदू बोले हम खुश, अल्पसंख्यकों पर जुर्म की बात को नकारा

0
225

मोदी सरकार की ओर से नागरिकता संशोधन कानून यानी सी ए ए लाने के बाद यह बहस सुनने को मिली थी कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक खासकर हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन आदि समुदाय के लोग परेशान हैं और उन पर वहां की सरकार धर्म परिवर्तन का दबाव डाल रही है और अत्याचार करती है।

लेकिन इस दिवाली के मौके पर यूट्यूब में पाकिस्तान के कई यूट्यूबर के वीडियो देखने को मिल जाएंगे जहां हिंदू, सिंधी जैन आदि समुदाय के लोग खुशी से दिवाली बना रहे हैं। जमकर आतिशबाजी की जा रही हैं और लक्ष्मी मां की पूजा की जा रही है और दावते भी हो रही है। हिन्दू समुदाय से जुड़े कई जन प्रतिनिधि भी दीवाली मना रहे हैं और कह रहे है कि पाक में हिन्दू खुश हैं।

ज्यादातर वीडियो कराची शहर के हिंदू समुदाय की कॉलोनियों से हैं। जैसा कि पाकिस्तान पर आरोप लगाया जाता है कि वहां आज अल्पसंख्यकों को उनके त्योहारों को मनाने नहीं दिया जाता और रोक-टोक की जाती है। ऐसा इन वीडियो में नहीं देखा गया। खासकर लोग भी इस बात को लेकर कोई शिकायत करते नजर नहीं आए। वीडियो में जय बजरंगबली, जय श्री राम किनारे भी सुनने को मिले।

वहीं अगर पाकिस्तान से भारत में हिंदू समुदाय के लोगों की बातों पर ध्यान दें तो सामने आता है कि ज्यादातर लोग रोजी-रोटी की तलाश में भारत आए हैं हालांकि टीवी चैनलों के कार्यक्रमों में पाकिस्तान से आए कई हिंदुओं ने यह माना भी है कि उनके साथ अत्याचार हुआ है और धर्म परिवर्तन का दबाव डाला गया था।

दिल्ली के मजनू के टीले में साल 2013 से आए विस्थापित हिंदुओं किए कॉलोनी है, जिसमें 100 से ज्यादा परिवार रहते हैं वह 2013 में पाकिस्तान से आए हैं और इनमें से कईयों को नागरिकता मिलना जरूर मिलना बाकी है लेकिन इस कॉलोनी में अभी भी बुनियादी सुविधाओं का जबरदस्त अभाव है। पीने का पानी तो दूर की बात है, शौच करने के लिए ना पानी और ना शौचालय है।