बिहार में भाजपा की चाहत नीतीश नहीं मोदी हो जदयू बीजेपी गठबंधन का चेहरा

0
345

भारतीय जनता पार्टी चाहती है कि बिहार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जदयू और उनके गठबंधन का प्रमुख चेहरा बने ताकि आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी विपक्ष को ठीक से टक्कर दे सके।

नीतीश में पहले जैसी बात नहीं

भाजपा के बिहार के नेताओं से लेकर दिल्ली के नेताओं में भी यह सहमति बनने लगी है कि नीतीश कुमार में अब पहले जैसी बात नहीं रही है और लोग उनसे अब खार खाए बैठे हैं, इसलिए भाजपा ने जदयू को भी मनाने की कोशिश की है कि वह नीतीश कुमार पर दांव लगाने की बजाय नरेंद्र मोदी के चेहरे को आगे लेकर बड़े क्योंकि अभी एम पीएम की लोकप्रियता पर कोई फर्क नहीं पड़ा है।

भाजपा नेताओं का कहना है कि लोग ऐसा कह रहे हैं कि प्रधानमंत्री ने वायरस को रोकने के लिए ठीक समय पर लॉकडाउन किया था जिसकी वजह से आज काफी लोग बीमार होने से बच गए।

नीतीश को जनता मान रही थका हुआ

भाजपा नेता मानते है कि इतने सालों मुख्यमंत्री रहने के बाद नीतीश कुमार थके हुए नजर आ रहे हैं और जनता भी उन्हें इतना ज्यादा पसंद नहीं कर रही है जैसे पहले उनके लिए लोगों के मन में एक सम्मान था।

मोदी से ज्यादा रैलियां करने की अपील

भाजपा ने अभी कुछ समय पहले भी अपने लोगों को बिहार में जनता का मूड जाने के लिए भेजा था। इसी टीम ने पार्टी के बड़े नेताओं को रिपोर्ट दी है कि प्रधानमंत्री अगर इस बार बिहार के चुनावों में ज्यादा रैलियां नहीं करते हैं तो जदयू और बीजेपी के गठबंधन को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।

विपक्ष में दम नहीं पर ले नहीं ले सकते रिस्क

बिहार के भाजपा नेताओं का यह तो कहना है कि राज्य में विपक्षी दलों का भी बुरा हाल है लेकिन कोरोना वायरस और बाढ़ में जिस तरीके से नीतीश कुमार का नेतृत्व कमजोर पड़ा था उसे जनता अभी तक भूली नहीं है। राज्य में अपराध, गरीबी, भुखमरी, जाति भेदभाव अशिक्षा, खराब स्वास्थ्य सेवाएं जैसे तमाम मुद्दे मुख्यमंत्री के सिर पर खड़े हो गए हैं। भाजपा मानती है कि इसका बोझ गठबंधन पर पड़ेगा।