ये हैं 3 वैक्सीन जिसे लेकर पीएम मोदी ने कहा वैज्ञानिकों हरी झंडी देने के बाद भारत उत्पादन करने को है तैयार

0
296

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ने लाल किले से अपने संबोधन में कहा कि जब भी कोरोना वायरस की बात होती है तो हर किसी के जेहन में सवाल होता है कि आखिर वैक्सीन कब तक तैयार होगी। पीएम ने कहा कि हमारे देश के वैज्ञानिक ऋषि-मुनि की तरह है, जो फिलहाल लैब में कड़ी तपस्या कर रहे हैं।

उन्होंने आगे बताया कि आज भारत में कोराना की एक नहीं, दो नहीं, तीन-तीन वैक्सीन्स इस समय टेस्टिंग के चरण में हैं। जैसे ही वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी, देश की तैयारी उन वैक्सीन की बड़े पैमाने पर उत्पादन की है।प्रधानमंत्री मोदी ने साथ ही बताया कि देश में कोरोना की टेस्टिंग किस तरह तेज हुई है। उन्होंने बताया कि जब कोरोना शुरू हुआ था तब देश में टेस्टिंग के लिए सिर्फ एक लैब थी। आज देश में कोरोना की जांच के लिए 1,400 से ज्यादा लैब हैं ।

कौन कौन सी है यह तीन वैक्सीन?

देश में फिलहाल तीन कोरोना वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। इनमें भारत बायोटेक की कोवाक्सिन(Covaxin), जाइडस कैडिला की जाइकोव-डी(Zykov-D) और पुणे के सेरम इंस्टीट्यूट ऑफ इण्डिया व ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा मिलकर बना रहे वैक्सीन शामिल है। देश की पहली स्वदेशी कोरोना वैक्सीन कोवाक्सिन(Covaxine) का ट्रायल भारत बायोटेक की अगुवाई में देश के कुल 12 सेंटर पर फिलहाल चल रहा है। एक जानकारी के मुताबिक, देश के अलग-अलग हिस्सों में अभी तक पहला ट्रायल पूरा हो गया है और सितंबर की शुरुआत में दूसरा फेज़ शुरू होने के आसार हैं।