राजनीति का धर्म बोल रही सियासत, दहसत में दिल्ली!

0
260

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए विरोधी हिंसा में लगातार मौतों का आंकड़ा बढ़ रहा है। जानकारी के मुताबिक, गुरुवार तक 32-40 लोगों की मौत हो गई। वहीं 250 लोग जख्मी हैं। जीटीबी अस्पताल में 30 और एलएनजेपी अस्पताल में 2 मौतें दर्ज हुईं। उधर, हिंसा के 3 दिन बाद बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से शांति-भाईचारे की अपील की। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा- यहां स्थिति चिंताजनक है। हिंसा प्रभावित इलाकों में सेना तैनात की जाए और कर्फ्यू लगाया जाए। पुलिस ने हालात काबू करने के लिए तमाम कोशिशें कीं, लेकिन वो नाकाम रही।हिंसा प्रभावित इलाकों में सेना तैनात की जाए।
इसी बीच, एनएसए अजीत डोभाल डीसीपी नॉर्थ-ईस्ट के दफ्तर पहुंचे। उन्होंने दंगा प्रभावित इलाकों का जायजा लिया।इससे पहले मोदी कैबिनेट की मीटिंग भी हुई। दिल्ली पुलिस ने बताया कि अब तक 18 एफआईआर दर्ज की गई हैं और 106 लोग गिरफ्तार किए गए हैं।
दूसरी तरफ, मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात 12.30 बजे वकील की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने सुनवाई की थी। मुस्तफाबाद हिंसा में घायल लोगों को यहां के अल-हिंद अस्पताल से किसी बड़े हॉस्पिटल में शिफ्ट करने के आदेश दिए। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के चांद बाग इलाके में बुधवार को आईबी अधिकारी अंकित शर्मा का शव मिला।

उपद्रव करने पर सख्त कार्रवाई: दिल्ली पुलिस
दिल्ली पुलिस ने कहा- हमारे पास सीसीटीवी फुटेज है। हम इसकी मदद से शरारती तत्वों की पहचान कर रहे हें। हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में अतिरक्त पैरामिलिट्री बल तैनात किया गया है। सीनियर पुलिस ऑफिसर द्वारा पैदल मार्च किया गया है। हमने ड्रोन की मदद से ऐसी छतों को चिन्हित किया है, जहां से पत्थरबाजी की गई। हमने लोगों से अपील की है कि अफवाह पर ध्यान न दें। हेल्पलाइन नंबर 112 पर हमें घटना की सूचना दें। उपद्रव करने की कोशिश करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
जज के यहां आधी रात को सुनवाई
मुस्तफाबाद हिंसा में घायल कई लोगों का स्थानीय अल-हिंद अस्पताल में इलाज चल रहा है। मंगलवार देर रात वकील ने जस्टिस मुरलीधर को फोन पर अस्पताल के खराब हालात और मरीजों की जानकारी दी और उनसे दखल की अपील की। इसके बाद, जस्टिस मुरलीधर के घर पर सुनवाई हुई, जहां जस्टिस एजेभंबानी भी मौजूद थे। बेंच ने पुलिस को आदेश दिया कि सुरक्षा के बीच घायलों को अल-हिंद अस्पताल से जीटीबी या किसी अन्य हॉस्पिटल में शिफ्ट किया जाए।

शाह ने 24 घंटे में तीन बैठकें कीं
उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगों पर काबू पाने के लिए गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार रात तक 24 घंटे में 3 बैठकें कीं। इसमें दिल्ली के नए विशेष आयुक्त (कानून व्यवस्था) एसएन श्रीवास्तव के साथ देर रात हुई बैठक भी शामिल है। दरअसल, दंगाग्रस्त इलाकों भजनपुरा, घोंडा, यमुना विहार, चांदबाग, करावल नगर समेत कई इलाकों में मंगलवार तड़के हिंसा शुरू हो गई थी। गुरु तेग बहादुर अस्पताल में घायल सुबह 7 बजे से पहुंचने लगे थे।