सरकार ने माना इस साल हालात खराब अगले साल कुछ ठीक रहेगा साल, इको सर्वे

0
50

मोदी सरकार ने 1 फरवरी को पेश होने वाले बजट से पहले देश का आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया है। इसमें साफ तौर पर सरकार ने स्वीकार किया है कि इस साल देश की आर्थिक हालत बहुत खराब है लेकिन अगले साल तक स्थिति ठीक-ठाक हो जाएगी और इसके लिए सरकार को जमकर खर्च करना पड़ेगा।

सरकार ने उदाहरण दिया है कि जिस तरह से प्राचीन काल में राजा महाराजा लोगों को रोजगार देने और बाजार में नगदी लाने के लिए महल बनाते थे। वैसे ही सरकार को भी अपना खर्च बढ़ना पड़ेगा, उसे निर्माण कार्यों में ज्यादा से ज्यादा निवेश करना पड़ेगा ताकि लोगों को रोजगार मिल सके।

हालांकि आर्थिक सर्वेक्षण में इस साल सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी 7.7% तक गिरने का अनुमान लगाया है जो कि साफ तौर पर दिखाता है कि अभी देश की हालत कितनी खराब है और काम धंधे कोरोनाव और लॉकडाउन के बाद सही तरीके से चल नहीं पा रहे हैं।

अभी भी लोगों की आय कोरोना वायरस से पहले के समय के बराबर नहीं हो पाई है। पिछले साल के मुकाबले उनकी आय काफी घट गई है और खर्चे बढ़ गए हैं।

वेतन भोगी वर्ग से लेकर दुकानदार आदि व्यापारी वर्ग की कमाई पर जमकर प्रभाव हुआ है। आर्थिक सर्वेक्षण ने हालांकि उम्मीद जताई है कि अगले साल काम धंधे रफ्तार पकड़ेंगे और विकास की दर 11 फ़ीसदी की उछाल लेगी। खैर अभी यह उम्मीद है और सरकार को भी लग रहा है कि 1 साल के अंदर काफी सुधार होगा और लोगों की जेब में भी पैसे आएंगे।