हाथरस गैंगरेप पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई, एक बार नहीं कई बार दबाया गला, प्रियंका को रोकने में जुटी यूपी पुलिस

0
353

हाथरस गैंगरेप पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट में गले पर चोट के निशान की बात है और हड्डियां भी टूटी हुई हैं।
सफदरजंग अस्पताल के द्वारा जारी की गई इस रिपोर्ट में बताया गया कि पीड़िता की मौत का मुख्य कारण विसरा रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा. हालांकि, रिपोर्ट में गले पर चोट के निशान का भी जिक्र किया गया है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बताया गया है कि सिर्फ एक बार नहीं कई बार गले दबाने की कोशिश की गई है। पीड़िता की ओर से कई बार बचाव की कोशिश की गई, इस वजह से गर्दन की हड्डी भी टूट गई थी। अभी विसरा रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है, जिसके बाद इस बात की पुष्टि की जाएगी कि मौत का कारण क्या रहा।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पूरा ब्योरा

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि ये घटना 14 सितंबर सुबह नौ बजे की है और शाम को चार बजे के करीब पीड़िता को अलीगढ़ के अस्पताल में शिफ्ट किया गया।

जब पीड़िता की हालत बिगड़ी तो 28 तारीख को उसे दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में लाया गया।

इलाज के दौरान 29 तारीख को सुबह 6.55 बजे पीड़िता की मौत हो गई।

प्रियंका को रोकेगी पुलिस, राजनीति ड्रामा होगा

इस बीच कांग्रेस महासचिव और प्रियंका गांधी और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हाथरस गैंगरेप पीड़ित महिला के परिवार वालों से मिलने के लिए रवाना हो रहे हैं लेकिन यूपी पुलिस उन्हें रोकने के लिए बॉर्डर पर नाकाबंदी करने में जुट गई है।

गाजियाबाद का यूपी गेट बॉर्डर और नोएडा के डीएनडी बॉर्डर पर यूपी पुलिस ने बैरिकेड लगा दिए हैं। वहीं राहुल और प्रियंका चुपके से किसी और रास्ते से हाथरस पहुंचने की फिराक में है आज का दिन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के हिसाब से राजनीतिक ड्रामे से भरपूर रहेगा।

माना जाता है कि योगी सरकार का पुलिस को साफ निर्देश है कि प्रियंका और राहुल को हाथरस के बुलगारी गांव तक पहुंचने नहीं दिया जाए। सूत्रों का कहना है कि उत्तर प्रदेश सरकार इस मुद्दे पर किसी भी दल को मुद्दा बनाने का मौका देना नहीं चाहती इसलिए नेताओं को पीड़ित परिवार के पास पहुंचने के लिए घेराबंदी कर ली गई है।

इससे पहले पुलिस ने पीड़ित के शव का आधी रात में दाह संस्कार कर दिया था जबकि परिवार पुलिस से सुबह दिन के उजाले में दाह संस्कार के लिए कहता रहा लेकिन प्रशासन नहीं माना था आज का दिन ड्रामा देखने को मिल सकता है।