Coronavirus: संकट काल में चीन कर रहा राजनीति!

0
102

चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी है। सूत्रों के मुताबिक, अब तक 2300 से ज्यादा लोग चीन में इस कोराना वायरस की वजह से मृत्यु हो चुकी है।वुहान में सबसे ज्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में हैं। रिपोर्ट के मुताबिक वुहान में 45,346 लोग कोरोनावायरस से जूझ रहे हैं। वुहान में कुछ भारतीय अब भी फंसे हुए हैं। इन भारतीयों को लाने के लिए वायुसेना का विमान सी-17 ग्लोबमास्टर चीन जाने वाला है लेकिन चीन जानबूझकर इस विमान को उड़ान भरने की इजाजत नहीं दे रहा है। दरअसल, चीन भारतीय वायुसेना को वुहान में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए क्लियरेंस नहीं दे रहा है। कोरोना वायरस के संकट से जूझ रहा चीन इस मुश्किल घड़ी में भी भारत के सामने मुश्किलें खड़ी कर रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक चीन वायुसेना के विमान को वुहान जाने की इजाजत देने में जानबूझकर देरी कर रही है जिससे वुहान में फंसे भारतीय बेहद परेशान हैं।
दरअसल ये विमान यहां से कोरोना वायरस से जुड़े इलाज के लिए दवाएं भी लेकर जाएगा और वापसी के दौरान वुहान में फंसे भारतीयों को लेकर वापस आएगा लेकिन चीन के अड़ंगे की वजह से इस ऑपरेशन में बाधा आ रही है और भारतीयों की तत्काल वापसी पर सवाल उठ गया है।
रिपोर्ट के मुताबिक C-17 ग्लोबमास्टर 20 फरवरी को ही वुहान के लिए उड़ान भरने वाला था, लेकिन चीन की ओर से इजाजत न देने की वजह से ऐसा नहीं हो सका. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक उच्च पदस्थ सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, “चीन जानबूझकर भारत के विमान को मंजूरी देने में देरी कर रहा है।
वहीं, विदेश मंत्रालय क का कहना है कि इस विमान से लगभग 100 भारतीय को वापस लाया जाएगा। भारत सरकार ने वुहान में फंसे भारतीयों को कहा है कि जो भी वापस आना चाहते हों वे भारतीय दूतावास से संपर्क करें। और बता दे कि एअर इंडिया चीन से 640 भारतीयों को वुहान से वापस ला चुका है।
इसी बीच चीन ने उन आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि वह भारत के विमान को वुहान आने की इजाजत देने में देरी कर रहा है।

Leave a Reply