लॉक डाउन में सबसे ज्यादा अर्थव्यवस्था और शिक्षा पर प्रभावित, प्राइवेट स्कूल में फीस बढ़ाने की अनुमति नहीं : मनीष सिसोदिया!

0
129

कोरोना वायरस के संकट और लॉकडाउन के बीच दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने स्कूली बच्चों को लेकर बड़ा एलान किया है. उन्होंने कहा इस लॉक डाउन का असर सबसे ज्यादा अर्थ व्यवस्था और शिक्षा पर पड़ा है। जिससे पूरे देश में क्षति हो रही है। दिल्ली सरकार ने फैसला किया है कि कोई भी प्राइवेट स्कूल बिना सरकार से पूछे फ़ीस नहीं बढ़ा सकता. इसके अलावा स्कूल, ट्रांसपोर्टेशन फ़ीस भी नहीं वसूल सकेंगे.

मनीष सिसोदिया ने कहा, ”मेरे संज्ञान में ये बात आयी हैं कि कई स्कूल मनमानी तरीके से फीस ले रहे हैं, स्कूल बंद होने के बावजूद ट्रांसपोर्टेशन फ़ीस वसूल रहे हैं. प्राइवेट स्कूलों को इतना नीचे गिरने की जरूरत नहीं है.” उन्होंने कहा, ”दिल्ली सरकार ने फैसला किया है कि कोई भी प्राइवेट स्कूल बिना सरकार से पूछे फ़ीस नहीं बढ़ा सकता.

इस समय बच्चों की फीस ना देने की वजह से उनका ऑनलाइन कक्षाओं से नाम काटना उचित नहीं है.”
सिसोदिया ने कहा, ”सभी प्राइवेट स्कूल अपने स्टाफ को समय पर सैलरी देंगे. अगर कोई समस्या है तो पेरेंट्स संस्था की मदद से अपने स्टाफ को सैलरी देनी होगी. इसमें कोई बहाना नहीं चलेगा. जो स्कूल इसका पालन नहीं करेगा उन पर आपदा कानून और दिल्ली स्कूल एक्ट के तहत कार्यवाही होगी.” सिसोदिया ने कहा कि तीन महीने की फीस चार्ज नहीं करेगा, सिर्फ ट्यूशन फीस ली जाएगी वो भी प्रति माह लेनी होगी. ट्रांसपोर्टेशन फीस पर रोक लगेगी. जो पेरेंट्स अपने बच्चों की फीस देने में असमर्थ हैं वो चिंता ना करें. उनके बच्चों का नाम ऑनलाइन क्लास से नहीं काटा जाएगा.”

Leave a Reply