रेलवे ने 30 जून तक की बुकिंग कैंसिल की, श्रमिक और स्पेशल ट्रेनें चलती रहेंगी!

0
249

कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में 24 मार्च से लॉकडाउन लागू करने के साथ ही पैसेंजर ट्रेनों का संचालन भी रोक दिया गया था। इस बीच मालगाड़ियां दौड़ती रहीं। 12 मार्च से रेलवे ने नई दिल्ली से देश के 15 रूटों पर 15 जोड़ी ट्रेनों की शुरुआत की है। काफी एहतियात और जांच पड़ताल के बाद यात्री इन ट्रेनों में सफर कर रहे हैं।

रेलवे ने 30 जून तक बुक हुए ट्रेन टिकट कैंसिल कर दिए हैं। रेल मंत्रालय ने गुरुवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि सभी टिकटों पर फुल रिफंड दिया जाएगा यानी यात्रियों से कैंसिलेशन चार्ज वसूल नहीं किया जाएगा। रलेवे बोर्ड पैसेंजर मार्केटिंग डायरेक्टर की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि मेल, एक्सप्रेस, पैसेंजर और उपनगरीय सहित सभी ट्रेनों को कैंसल कर दिया गया है। हालांकि श्रमिक स्पेशल और स्पे ट्रेन चलती रहेंगी। इस फैसले से माना जा रहा है कि 30 जून तक ट्रेनों की सामान्य सेवा बहाल नहीं होगी। आमतौर पर ट्रेन के टिकट 120 दिन पहले तक बुक किए जा सकते हैं। ऐसे में लॉकडाउन से पहले ही कई टिकट बुक किए जा चुके थे।

सूत्रों के मुताबिक, रेलवे ने बताया कि ऑनलाइन बुकिंग में 13 मई से सभी यात्रियों का डेस्टिनेशन एड्रेस लेना भी शुरू किया गया है, ताकि जरूरत पड़ने पर कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में मदद मिल सके और अगले सात दिन के लिए स्पेशल ट्रेनों में 2.34 लाख यात्रियों ने टिकट की बुकिंग की है। इससे 45.30 करोड़ रुपए का रेवेन्यु मिला है।

स्पेशल ट्रेनों के लिए 22 मई से वेटिंग लिस्ट जारी करेगा रेलवे, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी शुरू हो सकती हैं

एसी स्पेशल ट्रेन चलाने के बाद रेलवे जल्द ही मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी शुरू कर सकता है। रेल मंत्रालय ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। रेलवे बोर्ड ने बुधवार को आदेश जारी किया। इसके मुताबिक, 22 मई से स्पेशल एसी के साथ ही दूसरी ट्रेनों में भी वेटिंग लिस्ट वाले टिकट जारी किए जाएंगे।

रेलवे कोरोना संक्रमित की टिकट की पूरी राशि रिफंड करेगा
इधर, कोरोना के लक्षण की वजह से जिन लोगों को ट्रेनों में यात्रा करने से रोका जाएगा, उन्हें रेलवे टिकट की पूरी राशि रिफंड करेगा। रेलवे ने बुधवार को यह जानकारी दी। इस संबंध में गाइडलाइन जारी की गई है। इसके मुताबिक, कंफर्म टिकट वाले यात्री में अगर स्क्रीनिंग के दौरान कोविड-19 के लक्षण नजर आते हैं। जैसे तेज बुखार, खांसी तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं होगी। इस सूरत में उसका टिकट रद्द कर दिया जाएगा और रेलवे पूरा पैसा लौटाएगी।

ग्रुप टिकट कैंसिल होने पर भी पूरा पैसा रिफंड होगा
वहीं, ग्रुप टिकट में अगर कोई एक मुसाफिर यात्रा के लिए अनफिट पाया जाता है और उस पीएनआर नंबर पर यात्रा करने वाले दूसरे लोग भी ट्रैवल नहीं करना चाहते हैं तो उस सूरत में भी रेलवे टिकट का पूरा पैसा लौटाएगा।

हालांकि रेलवे ने इन ट्रेनों में प्रतीक्षा सूची की सीमा एसी थ्री टायर के लिए 100, एसी टू टायर के लिए 50, स्लीपर क्लास के लिए 200, चेयर कार के लिए 100 और फर्स्ट एसी तथा एग्जीक्यूटिव क्लास के लिए 20-20 तय की है।  वेटिंग टिकट बुक कराए जा सकेंगे। नई व्यवस्था 15 मई से बुक होने वाले टिकट पर लागू होगी।

Leave a Reply