पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की: कोरोना को जितना रोकेंगे, उतना अर्थव्यवस्था खुलेगी!

0
136

देश में बढ़ते कोरोना रफ्तार के बीच आज से दो दिनों की केंद्र और राज्यों की अहम बैठक शुरू हो गई है. पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अलग-अलग राज्यों के साथ कोरोना वायरस से निपटने के लिए रणनीति तैयार कर रहे हैं.
बता हे कि, पीएम मोदी मुख्यमंत्रियों के साथ छठी बैठक किए. इस बैठक में कई बातों पर मंथन हुआ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पंजाब,चंडीगढ़ समेत पहाड़ी और पूर्वोत्तर के राज्यों के साथ बैठक किए. मुख्यमंत्रियों से संवाद में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस से हुई किसी की भी मौत असहज करने वाली है. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत दूसरों से अच्छा कर रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि भारत उन देशों में शामिल है जहां मृत्यु दर सबसे कम है. उन्होंने कहा कि थोड़ी सी भी लापरवाही, थोड़ी सी भी ढील, अनुशासन में कमी कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर कर देगा. अनलॉक1 को 2 सप्ताह हो रहे हैं, इस दौरान जो अनुभव आए हैं उसकी समीक्षा उसपर चर्चा आगे के लिए बहुत उपयोगी हो सकती हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि भविष्य में जब कभी भारत की कोरोना के खिलाफ लड़ाई का अध्ययन होगा, तो ये दौर इसलिए भी याद किया जाएगा कि कैसे इस दौरान हमने साथ मिलकर काम किया, Co-operative Federalism का सर्वोत्तम उदाहरण प्रस्तुत किया.

पीएम ने कहा कि दुनिया के बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स, हेल्थ के जानकार, लॉकडाउन और भारत के लोगों द्वारा दिखाए गए अनुशासन की आज चर्चा कर रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि दो गज दूरी बहुत जरूरी है. मास्क और फेस कवर जरूरी है. ये कोरोना को फैलने से रोकने में मददगार होंगे. हम कोरोना को जितना रोक पाएंगे उतना अर्थव्यवस्था खुलेगी. आज भारत में रिकवरी रेट 50 फीसदी से ऊपर हो गया है बिजली का उपयोग बढ़ा है. आज भारत दुनिया के उन देशों में अग्रणी है जहां कोरोना संक्रमित मरीजों का जीवन बच रहा है.

पीएम मोदी ने कहा कि हमें इस बात का हमेशा ध्यान रखना है कि हम कोरोना को जितना रोक पाएंगे, उसका बढ़ना जितना रोक पाएंगे. उतना ही हमारी अर्थव्यवस्था खुलेगी, हमारे दफ्तर खुलेंगे, मार्केट खुलेंगे, ट्रांसपोर्ट के साधन खुलेंगे, और उतने ही रोजगार के नए अवसर भी बनेंगे.

उन्होंने कहा कि मई में खाद की बिक्री पिछले साल के मुकाबले दोगुनी हुई है. अर्थव्यवस्था वापस पटरी पर लौट रही है. खरीफ की बुवाई 12 से 13 फीसदी बढ़ी है. खाद की बिक्री पिछले साल के मुकाबले ज्यादा है. जून के पहले हफ्ते में निर्यात फिर से अपनी पुरानी हालत में आ गया है और कोरोना के पहले वाले स्तर पर पहुंच गया है.

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे यहां जो छोटी फैक्ट्रियां हैं उन्हें गाइडेंस की, हैंड होल्डिंग की बड़ी जरूरत है. पीएम मोदी ने कहा मुझे पता है आपके नेतृत्व में इस दिशा में काफी काम हो रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि ट्रेड और इंडस्ट्री अपनी पुरानी रफ्तार पकड़ सकें, इसके लिए वैल्यू चैंस पर भी हमें मिलकर काम करना होगा.

मुख्यमंत्रियों से बातचीत में पीएम ने कहा कि किसान के उत्पाद की मार्केटिंग के क्षेत्र में हाल में जो रिफॉर्म्स किए गए हैं, उससे भी किसानों को बहुत लाभ होगा. इससे किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए नए विकल्प उपलब्ध होंगे, उनकी आय बढ़ेगी और स्टोरेज के अभाव के कारण उनको जो नुकसान होता था, उसे भी हम कम कर पाएंगे.

पीएम मोदी ने कहा कि लोकल प्रोडक्ट के लिए जिस क्लस्टर बेस्ड रणनीति की घोषणा की गई है, उसका भी लाभ हर राज्य को होगा. इसके लिए जरूरी है कि हम हर ब्लॉक, हर जिले में ऐसे प्रोडक्ट्स की पहचान करें, जिनकी प्रोसेसिंग और मार्केटिंग करके, एक बेहतर प्रोडक्ट हम देश और दुनिया के बाज़ार में उतार सकते हैं.

Leave a Reply