कर्मचारियों की छंटनी की योजना पर काम कर रहा है रेलवे मगर कह रहा है कि इससे नौकरियों की संख्या नहीं कम होगी

1
228

रेलवे कर्मचारी संगठनों के दबाव के बावजूद रेलवे बोर्ड ने सभी रेलवे जोन के जनरल मैनेजरों को निर्देश दिया है कि वह मौजूदा खाली पदों में से 50 फ़ीसदी पदों को खत्म कर दे।

रेलवे बोर्ड ने 24 नवंबर के अपने पत्र में जनरल मैनेजर मैनेजर को कहा है कि वह सुरक्षा क्षेत्र को छोड़कर सभी नए पदों पर रोक लगा दे
रेलवे बोर्ड ने यह भी कहा है कि पिछले 2 साल के दौरान खाली हुए सभी पदों की समीक्षा की जाए और इनमें से सुरक्षा के क्षेत्र को छोड़कर 50 फ़ीसदी पदों को खत्म कर दिया जाए।

रेलवे मंत्रालय की ओर से यह कदम जून में लिया गया था भारत में रेलवे सबसे बड़ी संगठन है नौकरी देने वाला सबसे बड़ा संगठन है लेकिन महामारी के बाद से मंत्रालय ने अपने खर्चों को और नुकसान की भरपाई के लिए कई कदम उठाए हैं

रेलवे मंत्रालय के प्रवक्ता डीजे नारायण ने इस पत्र के बारे में सफाई दी कि खाली पदों और खर्चों के युक्तिसंगत बनाने के प्रबंधन की कसरत हर सरकारी संगठन में की जाती है और मंत्रालय के इस आंतरिक पत्राचार को इसी संदर्भ में देखे जाने की जरूरत है

प्रवक्ता ने यह भी जोड़ा कि इस पत्राचार को सरकारी नौकरियों में कटौती के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

नारायण कहते हैं कि यह गौर करने वाली बात है कि रेलवे 1 लाख 40 हजार के करीब रिक्त पदों को भरने के लिए परीक्षा लेने जा रहा है। यह चयन प्रक्रिया 15 दिसंबर 2020 से शुरू होगी जिसमें 2 लाख 40 हजार उम्मीदवार उम्मीदवारों के भाग लेने की उम्मीद है।

वह यह भी कहते हैं कि रेलवे असिस्टेंट लोको पायलट की ट्रेनिंग और शामिल करने की प्रक्रिया को चरणबद्ध तरीके से पूरी कर रहा है यह प्रक्रिया अगस्त 2021 तक पूरी हो जानी चाहिए।

वह सफाई देते हैं कि भारतीय रेलवे खाली पदों को भरने का काम कर रहा है ना कि उसे घटाने का, इसलिए नौकरियों में कटौती गडर अगर कोई जाहिर करता है तो वह बिना किसी तथ्य के निराधार है।

भर्तियो में कटौती का डर

इससे पहले रेलवे ने हजारों रिटायर्ड कर्मचारियों की सेवाओं को समाप्त कर दिया था जिन्हें पिछले साल ही दोबारा सेवा से जोड़ा गया था मंत्रालय ने यह कदम लॉक डाउन की वजह से हुए घाटो को नियंत्रित करने के लिए खर्चों में कटौती के मकसद से लिया था। अब उसके बाद मंत्रालय का किए ताजी चिट्ठी पत्री से भर्तियों में कटौती खोने का डर बन गया है।

Read Latest Breaking News in Hindi

1 COMMENT

Comments are closed.